स्कन्दपुराण में किस शक्तिपीठ को काशी से भी ज्यादा महत्वपूर्ण बताया गया है जाने शक्तिपीठो के बारे में डॉ सुमित्रा अग्रवाल जी से भाग २  

स्कन्दपुराण में किस शक्तिपीठ को काशी से भी ज्यादा महत्वपूर्ण बताया गया है जाने शक्तिपीठो के बारे में डॉ सुमित्रा अग्रवाल जी से भाग २  

 0  124
स्कन्दपुराण में किस शक्तिपीठ को काशी से भी ज्यादा महत्वपूर्ण बताया गया है जाने शक्तिपीठो के बारे में डॉ सुमित्रा अग्रवाल जी से भाग २  
स्कन्दपुराण में किस शक्तिपीठ को काशी से भी ज्यादा महत्वपूर्ण बताया गया है जाने शक्तिपीठो के बारे में डॉ सुमित्रा अग्रवाल जी से भाग २  

महिषमर्दिनी माँ १८ भुजाओं वाली, सिंह पर विराजमान है। उसके हाथों में एक बीज, कमल, तलवार बाण वज्र मिसाइल, गदा, चक्र, डंडा , ढाल, धनुष, सुपारी और कमंडल की माला है।

माँ का चेहरा सफेद, कमर और पैरों का रंग लाल है। टांगों की जांघें और पिंडली नीले रंग की होती हैं। कमर का अगला भाग बहुरंगी वस्त्रों से ढका रहता है। उनकी माला, वेश-भूषा, आभूषण और श्रृंगार-प्रसाधन सभी दर्शनीय हैं। 

सती को महिषमर्दिनी और शिव को क्रोधीसा कहा जाता है। इसे करबीर शक्तिपीठ भी कहते हैं।

महिषमर्दिनी माँ कहा विराजमान है 

१६ .४२० अक्षांश और ७६ .१६० देशांतर पर सह्याद्री पहाड़ियों पर कोल्हापुर महाराष्ट्र में स्थित है महिषमर्दिनी माँ का दरबार । 

कोल्हापुर महाराष्ट्र, कर्नाटक और गोवा की सीमा रेखा पर स्थित है। मुंबई और पुणे से कोल्हापुर के लिए कुछ ही सीधी ट्रेनें हैं। हालांकि पुणे, गोवा सीधी ट्रेन। मिराज जंक्शन के माध्यम से सेवा, जो पूर्व में लगभग ५४ किमी दूर है, मौजूद है। मुंबई कोल्हापुर से ५२० किमी दूर है। मुंबई से सीधी ट्रेन महालक्ष्मी एक्सप्रेस उपलब्ध है।

महिषमर्दिनी का मंदिर कोल्हापुर स्टेशन से लगभग ३ किमी दूर है। ५२ स्तंभों पर भव्य मंदिर का निर्माण किया गया है। जिसमें मां की भव्य मूर्ति है। मंदिर के पास पद्म सरोवर, काशी तीर्थ और मणिकर्णिका पवित्र स्थान हैं। परिसर में ही एक बड़ा भैरव मंदिर स्थित है। मंदिर के मुख्य भाग का निर्माण नीले पत्थरों से किया गया है।

महालक्ष्मी का भव्य मंदिर कोल्हापुर में पुराने शाही महल के पास कोषागार के पीछे स्थित है। इस स्थान का महालक्ष्मी मंदिर शक्तिपीठ है।

यह स्थान महालक्ष्मी का नित्य निवास माना जाता है। हीरा मिश्रित कीमती पत्थरों से बनी देवी की चमकती हुई मूर्ति स्वयंभू है और इसी तरह बीच में स्थित पद्मरागमणि है। 3.५ फीट ऊंचाई की यह मूर्ति काफी खूबसूरत है। पैर के पास सिंह भी मौजूद है। मंदिर का आधार क्रययंत्र पर आधारित है। यह पांच चोटियों और तीन खुले हॉल से सुशोभित है।

सती माता का कौनसा अंग यहाँ गिरा था 

यहां सती माता के नेत्र गिरे थे। 

स्कन्दा पुराण , काशी और महिषमर्दिनी माँ 

महिषमर्दिनी माँ के स्थान का महत्व और भी अधिक बताया जाता है काशी की तुलना में।

वाराणस्याधिकं क्षेत्रं करवीरपुरं महत्व । 

भुक्तिमुक्तिप्रदं नृणां वाराणस्य यवाधिकम् ।।

अर्थात - करवीरपुर वाराणसी का सबसे बड़ा क्षेत्र है और इसका बहुत महत्व है।

यह वाराणसी से भी बढ़कर है और मनुष्यों को सुख और मुक्ति प्रदान करता है।

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow