कहां गुम हो गई हैं नूपुर शर्मा? मुंबई पुलिस का दावा नोटिस देने आए हैं लेकिन चार दिन से कोई अतापता ही नहीं है

कहां गुम हो गई हैं नूपुर शर्मा? मुंबई पुलिस का दावा नोटिस देने आए हैं लेकिन चार दिन से कोई अतापता ही नहीं है

कहां गुम हो गई हैं नूपुर शर्मा? मुंबई पुलिस का दावा नोटिस देने आए हैं लेकिन चार दिन से कोई अतापता ही नहीं है
कहां गुम हो गई हैं नूपुर शर्मा? मुंबई पुलिस का दावा नोटिस देने आए हैं लेकिन चार दिन से कोई अतापता ही नहीं है

दिल्ली : मुंबई पुलिस का कहना है कि बीजेपी की पूर्व प्रवक्ता नूपुर शर्मा का पिछले चार दिनों से कोई अता-पता नहीं है। देश की आर्थिक राजधानी की पुलिस ने शुक्रवार को दावा किया कि उसकी एक टीम

नूपुर शर्मा को नोटिस देने दिल्ली स्थित उनके आवास पर पहुंची, लेकिन पूर्व बीजेपी नेता वहां से गायब हैं। मुंबई पुलिस को चार दिनों से नूपुर शर्मा का कोई ठौर-ठिकाना नहीं मिल रहा है।

ध्यान रहे कि एक कट्टरपंथी तबके की धमकियों के कारण बीजेपी से निलंबित नूपुर शर्मा और पार्टी से निष्कासित नवीन कुमार जिंदल के दिल्ली छोड़कर अज्ञात जगह शिफ्ट करने की खबरें कुछ दिन पहले आई थी।

ऐसे में मुंबई पुलिस के इस दावे से भी बीते दिनों की उन खबरों की पुष्टि हो गई है दरअसल, पैगंबर विवाद के बाद नूपुर शर्मा पर देश के कई राज्यों के अलग-अलग थानों में केस दर्ज करवाए गए हैं। मुंबई के पायधोनी थाने में भी नूपुर शर्मा पर के खिलाफ 29 मई को प्राथमिकी (FIR) दर्ज कराई गई है।

पायधोनी पुलिस ने नूपुर को 25 जून को थाने में हाजिर होकर अपना बयान दर्ज करवाने को कहा था। पायधोनी थाने में रजा अकेडमी के संयुक्त सचिव इरफान शेख ने मामला दर्ज कराया है।

उनका आरोप है कि नूपुर ने पैगंबर को लेकर जो टिप्पणी की है, उससे मुसलमानों की आस्था को चोट पहुंची है। इस कारण सांप्रदायिक सद्भाव को झटका लगा है और समाज में वैमनस्यता फैल रही है।

नूपुर शर्मा के बयान को लेकर देशभर में हिंसक प्रदर्शन हुए। जम्मू-कश्मीर से लेकर उत्तर प्रदेश, झारखंड, पश्चिम बंगाल तक हिंसक प्रदर्शन हुए। खासकर शुक्रवार की नमाज के बाद जमकर उत्पात मचे।

उत्तर प्रदेश के कानपुर और प्रयागराज समेत कई जगहों पर जबर्दस्त पत्थरबाजी हुई। वहीं, झारखंड के रांची में एक प्रदर्शनकारी की जान चली गई जबकि प. बंगाल में रेलवे को काफी नुकसान पहुंचाया गया।

हालांकि, पैगंबर पर टिप्पणी के लिए बीजेपी ने नूपुर शर्मा को निलंबित कर दिया जबकि एक अन्य प्रवक्ता नवीन कुमार जिंदल को तो पार्टी से निष्कासित ही कर दिया। बावजूद इसके देश में एक वर्ग का आक्रोश कम नहीं हुआ और जुम्मे की नमाज के बाद हिंसक प्रदर्शन किए गए।

ब्यूरो चीफ : साहिल कपूर दिल्ली एनसीआर