जब अधेड़ उम्र के बुजुर्ग को हो गया 26 वर्षीय युवती से प्रेम जानिए फिर आगे क्या हुआ

जब अधेड़ उम्र के बुजुर्ग को हो गया 26 वर्षीय युवती से प्रेम जानिए फिर आगे क्या हुआ

जब अधेड़ उम्र के बुजुर्ग को हो गया 26 वर्षीय युवती से प्रेम जानिए फिर आगे क्या हुआ
जब अधेड़ उम्र के बुजुर्ग को हो गया 26 वर्षीय युवती से प्रेम जानिए फिर आगे क्या हुआ

पानीपत : अजब प्रेम की गजब कहानी फिर एक बार सामने आई है। हरियाणा के पानीपत में एक अधेड़ उम्र के बुजुर्ग को एक 26 वर्षीय एक युवती से प्रेम हो गया।

जिसकी प्रेम भावनाओं में बहकर इस अधेड़ ने अपनी सारी सम्पत्ति युवती के नाम कर दी। करीबन 45 लाख की सम्पत्ति की मालकिन बनीं इस युवती को उस समय बड़ा झटका लगा जब अधेड़ उम्र के बुजुर्ग के इकलौते बेटे ने युवती के नाम की गई सम्पत्ति पर अपना दावा पेश करते हुए, न्यायालय की शरण ली।

पानीपत के गुरुद्वारा साहिब कालोनी निवासी रामदयाल सिंह की उम्र करीब 43 वर्ष है। रामदयाल सिंह इसी कालौनी में एक किराने की दुकान चलते हैं। दुकान और मकान एक साथ ही है। जिसकी कीमत करीब 45 लाख रुपए है।

इसी कालौनी में किराए पर रहने वाली 26 वर्षीय ममता रानी एक विधवा है। उसके विवाह के बाद उसके पति की किसी बीमारी से मौत हो गई थी। ममता मूल रूप से उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ की रहने वाली है।वह यहां एक निजी कंपनी में नौकरी करती है।वह अक्सर रामदयाल सिंह की किराने की दुकान पर सामान लेने आती रहती थी।

इसी दौरान दोनों के बीच पहचान हो गई।करीब छह महीने तक दोनों एक दूसरे के बारे में सब कुछ जान गये।इसी दौरान रामदयाल सिंह ने ममता से विवाह का प्रस्ताव रखा दिया। ममता भी अकेले रहने से तंग आ चुकी थी।

वही उसने रामदयाल सिंह की लाखों की सम्पत्ति देख हा कर दी। जिसके बाद ममता ने रामदयाल सिंह के सामने शर्त रखी कि वह अपनी सारी सम्पत्ति अगर उसके नाम कर देगा तो वह विवाह करने के लिए राजी हैं। बस फिर क्या था रामदयाल सिंह ने तुरंत हामी भर दी।

जिसके बाद रामदयाल सिंह ने अपनी सारी सम्पत्ति ममता के नाम कर दी। ममता और रामदयाल सिंह ने दोनों ने एक मंदिर में जाकर विवाह कर लिया। ममता ने इसके बाद नौकरी भी छोड़ दी।

आस पड़ोस के रहने वाले लोगों को जब इसकी जानकारी मिली तो उन्होंने रामदयाल सिंह के इकलौते बेटे वरुण सिंह को इसकी जानकारी दी।दर असल रामदयाल सिंह की पत्नी का वरुण सिंह की पैदाइश के दौरान मौत हो गई थी।जब से रामदयाल सिंह अकेले रहते थे।

वरुण की देखभाल और शिक्षा बगैराह दिल्ली में रहने वाली रामदयाल सिंह की बहन जानकी देवी के यहां पर हुई थी। वरुण दिल्ली में ही एक निजी कंपनी में कार्यरत था।इस बात की जानकारी मिलने पर वरुण और रामदयाल सिंह की बहन पानीपत पहुंचे और उन्होंने उसे समझाने बुझाने का प्रयास किया।

लेकिन रामदयाल सिंह ने एक नहीं सुनी। वही ममता ने दोनों को घर से बाहर निकल दिया। जिसके बाद वरुण ने पानीपत न्यायालय की शरण ली। जिससे यह मामला मीडिया में सुर्खियां में आ गया। फिलहाल कोर्ट ने रामदयाल और ममता को नोटिस जारी किया है।

ब्यूरो चीफ : एम सलीम खान की रिपोर्ट