सोनिया और अशोक गहलोत के बीच दो घंटे की मुलाकात लंबी बातचीत का दौर चला

सोनिया और अशोक गहलोत के बीच दो घंटे की मुलाकात लंबी बातचीत का दौर चला

सोनिया और अशोक गहलोत के बीच दो घंटे की मुलाकात लंबी बातचीत का दौर चला
सोनिया और अशोक गहलोत के बीच दो घंटे की मुलाकात लंबी बातचीत का दौर चला

दिल्ली : कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष को लेकर हलचल तेज हो गई है। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का नाम अध्यक्ष पद की रेस में सबसे आगे हैं।इस मामले में उन्होंने कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से बुधवार की देर शाम करीब दो घंटे तक तक चर्चा की। दोनों नेताओं के बीच क्या चर्चा हुई यह तो जानकारी नहीं मिल पाई।

मीडिया कर्मियों के मुताबिक सोनिया ने इतना जरूर कहा कि पार्टी अध्यक्ष पद के लिए इस चुनाव में वे किसी का पक्ष नहीं करेंगी। गहलोत गुरुवार को राहुल गांधी से मिलने कोचि भी जाएंगे। वही कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने कहा अगर गहलोत अध्यक्ष बने तो उन्हें सीएम पद छोडना होगा।

दिल्ली पहुंचने पर गहलोत ने भले ही कांग्रेस अध्यक्ष के साथ सीएम बने रहने का संकेत दिया है लेकिन कांग्रेस नेता और एमपी के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने कहा कि यदि वह अध्यक्ष बनते हैं तो उन्हें सीएम की कुर्सी छोड़नी होगी। 

दिग्विजयसिंह ने कहा कि उदयपुर अधिवेशन में यह प्रस्ताव मंजूर हुआ था कि एक व्यक्ति महज एक ही पद पर रहेगा। दिग्विजय स्वयं भी अध्यक्ष पद का उम्मीदवार हैं। इससे पहले सुबह दिल्ली पहुंचने पर गहलोत ने कहा था कि अगर संगठन के लोग मुझे चाहते हैं।

तो उन्हें लगता है कि अध्यक्ष पद या मुख्यमंत्री पद पर मेरी जरूरत है तो मैं मना नहीं कर सकता। हमारे लिए पद एक व्यक्ति का नियम केवल नामिनेटेड पोस्ट के लिए है। चुनाव लड़कर कोई भी दो पदों पर रह सकता है। 

ब्यूरो चीफ : एम सलीम खान की रिपोर्ट