मसूरी में लगा कूड़े का अंबार, बदबू और गंदगी से लोगों का बेहाल, देहरादून नगर निगम ने मसूरी के कूडा लेने पर लगाई रोक

मसूरी में लगा कूड़े का अंबार, बदबू और गंदगी से लोगों का बेहाल, देहरादून नगर निगम ने मसूरी के कूडा लेने पर लगाई रोक

मसूरी में लगा कूड़े का अंबार, बदबू और गंदगी से लोगों का बेहाल, देहरादून नगर निगम ने मसूरी के कूडा लेने पर लगाई रोक
मसूरी में लगा कूड़े का अंबार, बदबू और गंदगी से लोगों का बेहाल, देहरादून नगर निगम ने मसूरी के कूडा लेने पर लगाई रोक

देहरादून नगर निगम के द्वारा मसूरी के कूडे को देहरादून के शीशम बाड़ा पर भेजने पर रोक लगा दी है जिसके बाद मसूरी नगर पालिका प्रषासन के सामने कूडे के प्रबंधन और निस्तारण करने को लेकर परेषानिया खडी हो गई है।

बता दे कि मसूरी नगर पालिका प्रशासन द्वारा मसूरी हर का कूड़ा एकत्रित कर देहरादून शीशम बाड़ा भेजा जाता था जिसपर 1 अगस्त से नगर निगम देहरादून के आयुक्त के आदेशों के बाद प्रतिबंध लग गया है।

जिसके बाद मसूरी नगर पालिका द्वारा टिहरी बाइपास रोड आइडीएच बिल्ंिडग के पास बनाया गए कलेक्टींग सेंटर पर कूडे अंबार लग गया है जिससे क्षेत्र में गंदगी और बदबू से हाल बेहाल हो गया है।

आइडिया बिल्डिंग के पास एकत्रित हो रहे कूडे के ढेर से विभिन्न प्रकार की जहरीली गैस निकलने से भी वातावरण प्रदुषित हो रहर है। कलेक्टींग सेंटर के सामने आईडीएच विल्ंिडग में रह रहे 40 से 50 परिवारों के स्वास्थ से भी खिलवाड़ किया जा रहा है।

वही उनको कूडे के ढेर से निकलने वाले बदबू और गंदगी से घरो में रहना मुषकिल हो गया है।वहीं कूड़ा कलेक्टींग सेटर मसूरी के सामने लंढौर क्षेत्र के लक्ष्मणपुरी क्षेत्र और छावनी परिषद का क्षेत्र कूडे से निकलने वाली गैस और बदबू की चपेट में आ रहा है।

अगर समय रहते एकत्रित कूड़े का निस्तारण नहीं किया जाता तो यहे बडर महामारी का रूप ले सकता है वहीं दूसरी ओर नगर पालिका प्रशासन द्वारा कूडे कलेक्टींग सेंटर में काम कर रहे कर्मचारियों की भी अनदेखी की जा रही है कूड़े के ढेर के बीच कूडे को अलग कर रहे कर्मचारियों के पास ना तो मास्क है और ना ही स्वास्थ्य सुरक्षा को लेकर पुख्ता इंतजाम किए गए हैं।

वहीं उनके स्वास्थ्य का भी समय-समय पर प्रशिक्षण नहीं कराया जा रहा है जिससे कई कर्मचारी गंभीर बीमारी से जूझ रहे हैं। कई कर्मचारियों ने कैमरे पर तो आने से मना कर दिया पर उनका यह कहना है।

कि उनका नगर पालिका प्रषासन द्वारा शोषण किया जा रहा है उनके स्वास्थ्य लगातार विंगड रहा है परन्तु उनके स्वास्थ्य कि चिंता करने वाला कोई नही है। स्थानीय निवासियों ने कहा कि नगर पालिका द्वारा करोडों रूपए विभिन्न माध्यमों से कूड प्र्रबंधन को लेकर लिया जा रहा है केन्द्र और राज्य सरकार द्वारा विभिन्न मदों से कूडे निस्तारण को लेकर पैसा दिया गया है।

परंतु मसूरी के कूड़े के निस्तारण को लेकर पालिका प्रषासन और कोई नीति नहीं बनाई गई है पूर्व में मसूरी के गंडी खाने में कूड़ा एकत्रित किया जाता था परंतु वहां पर पालिका अध्यक्ष अनुज गुप्ता द्वारा हटाकर मसूरी टिहरी

बाईपास पर कूड़े कलेक्टिंग सेंटर बनाया गया था परंतु अब देहरादून नगर निगम द्वारा मसूरी के कूडे को देहरादून के षिषम बाडा में डालने पर प्रतिबंध लगा दिया है जिसके बाद मसूरी नगरपालिका के सामने परेषानी खड़ी हो चुकी है ।

अधिशासी अधिकारी यूडी तिवारी ने बताया कि नगर निगम द्वारा मसूरी हरबर्टपुर विकासनगर के कूडे को षिषम बाडे में डालने पर रोक लगा दी है।

जिससे पालिका के सामने परेशानियां खड़ी हो चुकी है उन्होंने कहा कि उनके द्वारा शासन स्तर पर 6 महीने का समय मांगा गया है जिससे कि कूड़ा निस्तारण के लिए जगह चिन्हित कर प्लांट लगाया जा सके। उन्होने कहा कि उम्मीद है कि षिासन स्तर से उनको 6 माह का समय दिया जायेगा।

रिपोर्टर : सुनील सोनकर