पढ़िए आखिर क्यों धरने पर बैठे समाज कल्याण विभाग के कर्मचारी, समाज कल्याण अधिकारी पर लगाया हिटलरशाही का आरोप

पढ़िए आखिर क्यों धरने पर बैठे समाज कल्याण विभाग के कर्मचारी, समाज कल्याण अधिकारी पर लगाया हिटलरशाही का आरोप

पढ़िए आखिर क्यों धरने पर बैठे समाज कल्याण विभाग के कर्मचारी, समाज कल्याण अधिकारी पर लगाया हिटलरशाही का आरोप
पढ़िए आखिर क्यों धरने पर बैठे समाज कल्याण विभाग के कर्मचारी, समाज कल्याण अधिकारी पर लगाया हिटलरशाही का आरोप

रुद्रपुर : जनपद ऊधम सिंह नगर में नियुक्त जिला समाज कल्याण अधिकारी अमन अनिरुद्ध पिछले कई दिनों से सुर्खियों में बने हुए हैं। जहां एक तरफ जिले भर के दिव्यांग जन उन्हें हटाने की मांग कर रहे हैं तो वहीं अब समाज कल्याण विभाग में कार्यरत कर्मचारियों ने अमन अनिरुद्ध के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।

जिसके तहत उन्होंने आज से कार्यबहिष्कार कर धरना देना शुरू कर दिया है। उनके कार्यबहिष्कार से विभाग में आए दर्जनों दिव्यांग जनों को दिक्कतों का सामना करना पड़ा।

कार्यबहिष्कार कर विभाग में कार्यरत कर्मचारियों ने जिला समाज कल्याण अधिकारी अमन अनिरुद्ध पर अफसरशाही और हिटलरशाही रवैए अपनाने का आरोप लगाया है।दर असल समाज कल्याण अधिकारी अमन अनिरुद्ध ने विभागीय अधिकारियों का माह जुलाई का वेतन रोक दिया है।

जिससे कर्मचारियों का गुस्सा सातवें आसमान पर पहुंच गया।समाज कल्याण विभाग में कार्यरत रामपाल मेहता ने बताया कि जिला समाज कल्याण अधिकारी अमन अनिरुद्ध ने अपने पत्र 582 दिनांक 5 अगस्त 22 को विभागीय कर्मचारियों का माह जुलाई का वेतन अग्रिम आदेश तक रोके जाने के निर्देश दिए हैं।

कर्मचारियों का कहना है कि समाज कल्याण अधिकारी अमन अनिरुद्ध द्वारा डियूटी टाइम से अधिक समय तक उनसे काम लिया जा रहा है।

इसके बावजूद भी उन्होंने यूडीआई कार्ड एंट्री न किए जाने का झूठा बहना बनाकर कर्मचारियों का वेतन रोक दिया गया। उन्होंने बताया कि इस कार्य के आलावा भी भारी संख्या में सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं में आवेदन पत्र प्राप्त हुए हैं।

जिन्हें ओवर टाइम कार्य कर सूचीबद्ध किया जा रहा है। इसके अलावा विधानसभा सामान्य निर्वाचन 2022 के दिव्यांग पेंशनधारियों की पेंशन जारी करने का कार्य काम युद्ध स्तर पर किया जा रहा है। वही अभिलेखों की जांच पड़ताल की जा रही है।

इस सबके बावजूद भी कर्मचारियों के वेतन पर रोक लगाना जिला समाज कल्याण अधिकारी अमन अनिरुद्ध की अफसरशाही का प्रणाम है। वही इन आंदोलन कर रहे कर्मचारियों को उत्तरांचल फैडरेशन मिनिस्टीयल सर्विसेज एसोसिएशन उत्तराखंड की जनपद शाखा द्वारा अपना समर्थन दिया गया है।

जिला अध्यक्ष अमरदीप सिंह ने कहा कि जिला समाज कल्याण अधिकारी द्वारा कर्मचारियों का दमन किसी भी तरह से बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।अगर जरूरत पड़ी तो समस्त विभागीय कर्मचारियों द्वारा बड़े पैमाने पर आंदोलन किया जाएगा।

जिला स्तरीय आंदोलन शुरू किया जाएगा। वही कर्मचारियों के कार्य बहिष्कार से विभाग में आएं दिव्यांग जनों को खासी दिक्कत का सामना करना पड़ा।

धरना प्रदर्शन करने वाले में हेम जोशी,न ईम खान, निर्मल कुमार, रत्नेश, रामपाल मेहता, राजेश, पुष्पा जोशी, नंद किशोर, सचिन सक्सेना, संजय जोशी,भूप सिंह सहित अन्य कर्मचारी शामिल हैं। वही वरिष्ठ भाजपा नेता दलीप सिंह मक्कड़ ने धरने पर बैठे कर्माचारियों को अपना समर्थन दिया गया।

उन्होंने दूरभाष पर समाज कल्याण मंत्री चदन रामदास को जिला समाज कल्याण अधिकारी अमन अनिरुद्ध की अफसरशाही और उनके द्वारा कर्मचारियों के साथ किए जा रहे

व्यवहार तथा दिव्यागो द्वारा जिला समाज कल्याण अधिकारी को हटाने की मांग से अवगत कराया।बता दें कि बीते रोज उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी यहां एक कार्यक्रम में शिरकत करने आए थे।

उस दौरान केन्द्रीय दिव्यांग कल्याण परिषद उत्तराखंड ईकाई के अध्यक्ष एम सलीम खान के नेतृत्व समाज कल्याण अधिकारी अमन अनिरुद्ध को जनपद ऊधम सिंह नगर से हटाने की मांग को लेकर सीडीओ विशाल मिश्रा के जरिए ज्ञापन सौंपा गया था।

जिसके बाद अब विभागीय कर्मचारियों ने जिला समाज कल्याण अधिकारी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।

संवाददाता : अजीत कुमार पांडे की रिपोर्ट