जाते-2 सक्रिय हो रहा मॉनसून, उत्तर भारत मे अगले 3 दिन कई जगह होगी झमाझम बारिश

जाते-2 सक्रिय हो रहा मॉनसून, उत्तर भारत मे अगले 3 दिन कई जगह होगी झमाझम बारिश

जाते-2 सक्रिय हो रहा मॉनसून, उत्तर भारत मे अगले 3 दिन कई जगह होगी झमाझम बारिश
जाते-2 सक्रिय हो रहा मॉनसून, उत्तर भारत मे अगले 3 दिन कई जगह होगी झमाझम बारिश

उत्तर भारत में 4 महीनों के बरसाती सीजन अब अंतिम पड़ाव में आ चुका है। बीते 2 दिन पहले मानसून 2022 में राजस्थान के पश्चिमी इलाकों व गुजरात के कच्छ से हटना शुरू कर दिया है। इस समय मानसून की वापसी रेखा खाजूवाला, बीकानेर, जोधपुर, बाड़मेर और नलिया से गुजर रही है।

हालांकि एक बार फिर से सक्रिय हुई मानसूनी पूर्वी हवाओं के कारण मानसून की वापसी रुक चुकी है। और बंगाल की खाड़ी में बने कम दबाव के क्षेत्र जो अभी उत्तर पूर्वी मध्य प्रदेश पर मौजूद है के कारण उत्तर में मध्य भारत में कई इलाकों में हल्की से मध्यम में कुछ जगह भारी बारिश की गतिविधियां फिर से चालू हो गई है।

बीते 24 घंटों में बुंदेलखंड, अवध, पूर्वांचल, पश्चिमी उत्तर प्रदेश, दिल्ली, हरियाणा, चंडीगढ़, पुर्वी पंजाब, पूर्वी राजस्थान में कई जगहों पर हल्की से मध्यम बारिश में कुछ जगह भारी बारिश दर्ज की गई है।

सक्रिय बारिश की गतिविधियां आज भी पश्चिमी उत्तर प्रदेश, दिल्ली और दक्षिण पूर्वी हरियाणा में देखी जा रही है। दिल्ली-एनसीआर में बारिश का आंकड़ा कई जगहों पर 90mm को भी पार कर चुका है।

मौसमी प्रणालियां :

● एक कमजोर पश्चिमी विक्षोभ इस समय उत्तरी पाकिस्तान में साथ लगती लद्दाख पर मौजूद है।

● बंगाल की खाड़ी से आया कम दबाव का क्षेत्र (LPA) इस समय उत्तरी पूर्वी मध्य प्रदेश व साथ लगते बुंदेलखंड के लाखों पर बना हुआ है जो अगले 24 घंटों में दक्षिण-पश्चिमी उत्तर प्रदेश, पुर्वी राजस्थान व उत्तर मध्यप्रदेश के इलाकों की तरफ बढ़ेगा। और उसके बाद हरियाणा व दिल्ली में एंट्री लेगा।

● मानसून की वापसी रेखा इस समय खाजूवाला, बीकानेर, जोधपुर, बाड़मेर, और गुजरात के नलिया से गुजर रही है। अगले लगबग 1 हफ्ते तक मानसून की वापसी रेखा एक जगह स्थिर बनी रहेगी, इसकी अभी आगे बढ़ने की उम्मीद नहीं है। क्योंकि बंगाल की खाड़ी से आ रही पूर्वी हवाओं के कारण उत्तर भारत में मानसून सक्रिय लगातार बना रहेगा।

● मॉनसून की अक्षय रेखा इस समय पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, दक्षिण उत्तर प्रदेश, बुंदेलखंड औऱ उत्तर-पुर्वी मध्य प्रदेश पर बने लो प्रेशर एरिया के मध्य से, उत्तरी छत्तीसगढ़, उत्तर ओड़िशा व उत्तरी बंगाल की खाड़ी के इलाकों से गुजर रही है। जो अगले कई दिनों तक इन्हीं इलाकों को प्रभावित करती रहेगी।

जम्मू कश्मीर व लद्दाख:

इन दोनों राज्यो में 23, 26, 27, 28, 29 को मॉसम आंषिक रूप से साफ व दोपहर बाद बिखरी हुई हल्की से मध्यम बरसात होगी।

24, 25 को दोनो इलाको में बरसात की गतिविधियां बढ़ेगी। कई जगह हल्की से मध्यम बारिश व कुछ जगह भारी बारिश भी होगी।

लद्दाख के उत्तरी इलाको में 27 के बाद से बर्फबारी की गतिविधियां भी देखी जाएगी।

हिमाचल प्रदेश:

23, 26, 27 को राज्य में मॉसम आंषिक रूप से साफ व दोपहर बाद बिखरी हुई हल्की से मध्यम बरसात की गतिविधियां देखी जाएगी।

24, 25 को राज्य में बरसात बढ़ेगी। कई जगह हल्की से मध्यम बरसात होगी। कुछ जगह भारी बारिश भी संभव है। एक-दो जगह अति भारी बारिश भी देखी जाएगी।

24 या 25 सितंबर को राज्य के लाहौल स्पीति व किन्नौर जिले के उच्च हिमालय क्षेत्र में बर्फवारी भी देखी जाएगी।

27 सितंबर के बाद भी हल्की बारिश व बूंदाबांदी की गतिविधियां हिमाचल में जारी रहेंगी।

उत्तराखंड :

24 सितंबर की रात से 25 सितंबर और 26 सितंबर की सुबह तक राज्य में अधिकतर जगहों पर मध्यम से भारी बारिश होगी। कुछ जगह अति भारी बारिश होगी। एक दो जगह भारी से अति भारी बारिश भी देखने को मिलेगी।

इस दौरान राज्य के उत्तरकाशी, देहरादून, टिहरी, नैनीताल, पिथौरागढ़, चमोली व बागेश्वर जिले में बादल फटने, भूस्खलन और बाढ़ की गतिविधियां देखने को मिलेगी, इसलिए इस दौरान उत्तराखंड में यात्रा करने से बचें।

27 सितंबर से बारिश में पर कमी आएगी, लेकिन उसके बाद भी हल्की बारिश की गतिविधियां जारी रहेगी। 27 सितंबर के बाद राज्य के बिल्कुल उपरी कुछ हिमालय क्षेत्रों जैसे उत्तरकाशी, चमोली और पिथौरागढ़ जिले में में बर्फबारी की गतिविधियां शुरू होने लगेगी।

पंजाब :

23, 24 व 25 सितंबर के दौरान राज्य के पूर्वी व दक्षिण-पूर्व इलाकों (दोआबा व पुर्वी मालवा) में कई जगह हल्की से मध्यम बारिश में कुछ जगह भारी बारिश की गतिविधियां देखी जाएंगी।

वहीं राज्य के उत्तरी पश्चिमी जिलों में (माझा और पश्चिमी मालवा) में बिखरी हुई हल्की से मध्यम बारिश होगी। कुछ एक जगह भारी बारिश भी हो सकती है।

26 से 29 सितंबर के बीच लगभग पंजाब में मौसम साफ आंशिक बादल वाही वाला रहेगा हालांकि मानसून की अक्षीय रेखा के तराई क्षेत्र में जाने से राज्य के उत्तर पूर्वी इलाकों में हल्की बारिश की गतिविधियां हर रोज देखने को मिलेगी।

पंजाब से मानसून की विदाई 27 से 30 सितंबर के बीच हो सकती है। 

हरियाणा :

राज्य में 23, 24 को लगभग सभी जगह हल्की से मध्यम बरसात होगी। कई जगह भारी बारिश भी संभव है।

25 सितंबर को राज्य पर खाड़ी से आया कम दबाव का क्षेत्र पहुंच जाएगा। जिसके कारण राज्य के पंचकूला, अंबाला, यमुनानगर, करनाल, कैथल, कुरुक्षेत्र, जींद, पानीपत, सोनीपत, रोहतक, झज्जर, गुड़गांव, रेवाड़ी, पलवल, मेवात, फरीदाबाद और दिल्ली में कई जगह मध्यम से भारी बारिश होगी। कुछ जगह अति भारी बारिश भी देखने को मिलेगी। इस दौरान एक दो जगह भारी से अति भारी बारिश भी हो सकती है।

सिरसा, फतेहाबाद, हिसार, भिवानी, दादरी और महेंद्रगढ़ जिले में बिखरी हुई हल्की से मध्यम बारिश की गतिविधियां होंगी कुछ जगह भारी बारिश भी हो सकती है।

26 तारीख को लो प्रेशर एरिया उत्तराखंड की तरफ बढ़ जाएगा और हरियाणा में मौसम साफ होने लगेगा हालांकि दोपहर बाद कहीं-कहीं हल्की अब बारिश है बूंदाबांदी की गतिविधियां देखी जा सकती हैं।

26 से 29 तारीख के बीच हरियाणा में मौसम लगभग साफ व आंशिक बादलवाही वाला रहेगा। दोपहर बाद के समय राज्य के उत्तरी, पूर्वी और दिल्ली-एनसीआर में कहीं-कहीं हल्की बारिश या बूंदाबांदी की गतिविधियां देखी जाएगी।

राज्य के पश्चिमी इलाकों में मौसम लगभग साथ ही रहेगा बारिश की कोई खास उम्मीद नहीं है। सिर्फ छुटपुट जगह हल्की बारिश है बूंदाबांदी की संभावना है।

हरियाणा में मानसून की विदाई 27 से 30 सितंबर के बीच में हो सकती है।

राजस्थान :

23 व 24 सितंबर के दौरान राज्य के श्रीगंगानगर, हनुमानगढ़, चूरू, बीकानेर, जोधपुर, बाड़मेर, जालौर, सिरोही, राजसमंद, पाली, उदयपुर, डूंगरपुर, प्रतापगढ़, बांसवाड़ा व चित्तौड़गढ़ जिले में सघनी बादलवाही और गरज चमक के साथ बिखरी हुई हल्की से मध्यम बारिश की गतिविधियां होंगी। एक-दो जगह भारी बारिश भी हो सकती है खासकर हनुमानगढ़, चूरू, नागौर, पाली और चित्तौड़गढ़ जिले में।

25 सितंबर के बाद इन जिलों में मौसम साफ होने लगेगा। 25 से 27 सितंबर के बीच छिटपुट जगह हल्की बारिश बूंदाबांदी की गतिविधियां देखी जाएगी। 

पश्चिमी राजस्थान के शेष इलाकों से 25 से 29 सितंबर के बीच मानसून की वापसी हो सकती है।

वहीं राज्य के सीकर, झुंझुनू, अलवर, भरतपुर, धौलपुर, करौली, दोसा, जयपुर, अजमेर, टोंक, सवाई माधोपुर, कोटा, बूंदी, भीलवाड़ा, झालावाड़ और बारां जिले में आज कल या परसों ( 22, 23, 24 ) के दौरान कई जगह हल्की से मध्यम बारिश होगी। कुछ जगह भारी बारिश भी संभव है। वही एक-दो जगह अति भारी बारिश भी होगी।

25 तारीख को इन जिलों में बिखरी हुई हल्की से मध्यम बारिश की गतिविधियां देखी जाएंगी। इक्का-दुक्का जगह भारी बारिश भी हो सकती है।

26 से 30 सितंबर के बीच इन इलाकों में मौसम लगभग साफ रहेगा। दोपहर बाद छुटपुट जगहों पर हल्की बारिश व बूंदाबांदी की गतिविधियां से इनकार नहीं किया जा सकता है।

पूर्वी राजस्थान के इलाकों से मानसून की वापसी रेखा 26 से 30 सितंबर के बीच वापसी कर सकती है।

उत्तरप्रदेश : 

राज्य के सहारनपुर, मेरठ, मुरादाबाद, बरेली, अलीगढ़, आगरा, उत्तर लखनऊ, गोरखपुर, देवीपाटन, बस्ती, अयोध्या और आजमगढ़ संभाग के जनपदों में 23, 24, 25 व 26 सितंबर के दौरान कई जगह हल्की से मध्यम बारिश दर्ज की जाएगी और कुछ जगह भारी बारिश की गतिविधियां हर रोज होंगी। 

25 सितंबर को खाड़ी से आया लो प्रेशर एरिया हरियाणा के बाद पश्चिमी उत्तर प्रदेश की तरफ बढ़ेगा। जिसके कारण सहारनपुर, मेरठ, मुरादाबाद और बरेली संभाग के जनपदों में कई जगह मध्यम से भारी बारिश होगी। कुछ जगह अति भारी बारिश भी होगी। एक तो जगहों पर भारी से अति भारी बारिश भी संभव है।

27 से 30 सितंबर के बीच उत्तर प्रदेश के तराई क्षेत्र व पूर्वांचल में बिखरी हुई हल्की बारिश की गतिविधियां लगभग हर रोज देखी जाएगी कुछ एक जगह तेज़ बारिश भी हो सकती है।

वहीं राज्य के कानपुर, दक्षिण लखनऊ, झांसी, चित्रकूट, प्रयागराज, वाराणसी, मिर्जापुर, जिले में संभाग के जनपदों में 23, 25 और 26 सितंबर को बिखरी हुई हल्की से मध्यम बारिश की गतिविधियां होंगी। एक-दो जगह भारी बारिश भी हो सकती है।

24 सितंबर को इन इलाको में बारिश की कोई खास संभावना नहीं है। हालांकि दोपहर बाद बादलवाही के बीच छिटपुट जगह हल्की बारिश और बूंदाबांदी हो सकती है।

उत्तर प्रदेश के पूर्वांचल क्षेत्र को बारिश का नया दौर 29 सितंबर से फिर से शुरू होने की संभावना है। जो आने वाले दिनों में अवध, बुंदेलखंड, व पश्चिमी उत्तर प्रदेश को भी प्रभावित कर सकता है।

उत्तर प्रदेश में फिलहाल मानसून के जाने के संकेत नहीं है। हालांकि 27-28 सितंबर के बाद पश्चिमी उत्तर प्रदेश व बुंदेलखंड के कुछ इलाकों से मानसून की वापसी हो सकती है।

मध्यप्रदेश :

23 व 24 सितंबर के दौरान राज्य के चंबल, ग्वालियर, भोपाल, उज्जैन, इंदौर संभाग के जिलों में बिखरी हुई हल्की से मध्यम बारिश होगी। कुछ ज्यादा भारी बारिश के संभव है।

अगले 2 दिनों के दौरान मालवा के आगरमालवा, राजगढ़, शाजापुर, गुना व श्योपुर जिले में कुछ जगह अति भारी बारिश भी संभव है। 

निमाड़, होशंगाबाद, जबलपुर, सागर, रीवा व शहडोल संभाग के जिलो में बिखरी हुई हल्की से मध्यम बारिश की गतिविधियां देखी जाएंगी। एक दो जगह भारी बारिश भी हो सकती हैं।

25 से 27 सितंबर के बीच राज्य के चंबल, ग्वालियर, सागर, रीवा, शहडोल जनपद एवं मध्य प्रदेश के छत्तीसगढ़ से लगते पूर्वी में कही-2 हल्की से मध्यम बारिश की गतिविधियां देखी जाएंगी। 

शेष मध्य प्रदेश के इलाको में मौसम लगभग साफ औऱ आंशिक बादलवाही वाला बना रहेगा। दोपहर बाद छिटपुट जगह हल्की-फुल्की बारिश व बूंदाबांदी हो सकती है। 

29 सितंबर के बाद से पूर्वी मध्य प्रदेश में हल्की बारिश का नया दौर शुरू हो जाएगा। 

गुजरात :

राज्य के कच्छ, उत्तरी गुजरात, मध्य गुजरात व उत्तरी सौराष्ट्र के जिलों में मौसम 26 सितंबर तक लगभग साफ ही रहेगा। दोपहर बाद आंशिक बादल बाकी के साथ छिटपुट जगह हल्की-फुल्की बारिश भी हो सकती है।

दक्षिण गुजरात और दक्षिण सौराष्ट्र के इलाकों में कल से 26 सितंबर के बीच कही-2 हल्की से मध्यम बारिश की गतिविधियां दर्ज की जाएंगी। तटीय इलाकों में एक-दो जगह भारी बारिश भी हो सकती है।

बीते 24 घंटों में उत्तर भारत के मैदानी इलाकों में हुई बारिश के आंकड़े: 

Punjab:

Patiala Rev 60mm

Khanna 50mm

Bhatinda IAF 50mm

Zira 40mm

Moga 40mm

Jagraon 40mm

Nabha 40mm

Samana 40mm

Patiala 44mm

Bhatinda Agro 31mm

Sarmala Rev 30mm

Rajpura 30mm

Mohali 26mm

Sunam 20mm

Ludhiana IRR 20mm

Barnala Rev 10mm

Firozpur 10mm

Phangota 10mm

Nabha ARG 10mm

Bhadson Irr 10mm

Handiya HMO 10mm

Ludhiana 9.4mm

Ludhiana Agro 7mm

Gurdaspur 2mm

F.G Sahib 1.5mm

Barnala 1mm

Samrala, Ludhiana 1mm

Haryana:

Pataudi 80mm 

Ambala Rev 70mm

Ambala 61mm

Chandigarh Iaf 52mm

Karnal 51mm

Punhana 50mm

Karnal Rev 50mm 

Israna 50mm

Sirsa IAF 48mm

NDRI Karnal 48mm

Chandigarh 45mm

Chandigarh Aws 40mm

Bawal 40mm

Sahlawas 40mm

Bhiwani 40mm

Bapouli 40mm

Jhirka 30mm

Nahar Rev 30mm

Dadupur 30mm

Nuh 30mm

Samalkha 30mm

Rewari 30mm

Tohana 30mm

Jhajjar Aws 30mm

Morni 30mm

Nagina Rev 30mm

Ismailabad 30mm

Jhansa Irr 30mm

Farukhnagar 30mm

Jhajjar 29mm

Mewat Nuh Aws 28mm

Tajewala 20mm

Gharaunda 20mm

Khanpur Rev 20mm

Fatehabad 20mm

Naraingarh 20mm

Alewa Rev 20mm

Shivan Rev 20mm

Panipat 20mm

Fatehabad Aws 20mm

Palhawas Rev 20mm

Rattia 20mm

Manethi Rev 20mm

Jakhal Mandi Hmo 20mm

Badli Rev 20mm 

Nilokheri 20mm 

Madluda Rev 20mm

Panchkula 19mm

Rohtak 16mm

Meham 10mm

Taoru 10mm 

Bahadurgarh 10mm

Narnound Rev 10mm

Hansi Arg 10mm

Siwani 10mm

Panchkula 10mm

Uchana 10mm

Raipur Rani 10mm

Gohana 10mm

Sonepat 10mm 

Faridabad 10mm

Kalka 10mm 

Rajaund 10mm

Ballabgarh 10mm

Sampla 10mm

Ganaur 10mm

Kharkoda 10mm

Hodal 10mm

Barwala 10mm

Sirsa 10mm

Gurgaon Kvk 5.5mm

Kurukshetra Kvk 4.5mm

Hisar Agro 4mm

Mandkola, Nuh 1.8mm

Hisar 1.4mm

Bopani, Faridabad 0.5mm

Mahendergarh Kvk 0.5mm

Uttarpradesh:

Etawah 188mm

Etah 180mm

Jalesar, Etah 80mm

Hathras 60mm

Mathura 43mm

Agra 43mm

Prayagraj Amfu 38mm

Bhadohi kvk 36mm

Kanpur 34mm

Kannauj kvk 31mm

Sandila, Hardoi 19mm

Machhlishahar, jaunpur 19mm

Bulandshahr kvk 18mm

Varanasi ICAR 15mm

Handia, prayagraj 13mm

Rudauli, faizabad 13mm

Bhadohi 11mm

Mainpuri 9mm

Meerut 9mm

Jhansi 8mm

Chitrakoot kvk 8mm

Bhogaon, Mainpuri 7mm

Shamli 6mm

Konch, Jalaun 6mm

CDO Gaziabad 5

Chauri chaura, Gorakhpur 5mm

Gorakhpur 4mm

Danaura, Amroha 3mm