निगम ने भेजा 15 इलेक्ट्रिक सिटी बसों के संचालन का प्रस्ताव

निगम ने भेजा 15 इलेक्ट्रिक सिटी बसों के संचालन का प्रस्ताव

निगम ने भेजा 15 इलेक्ट्रिक सिटी बसों के संचालन का प्रस्ताव
निगम ने भेजा 15 इलेक्ट्रिक सिटी बसों के संचालन का प्रस्ताव

शहर से बेहट, रामपुर, सरसावा, नागल व छुटमलपुर तक चलेगी सिटी बसें

नगरायुक्त ने लिखा नगर विकास विभाग को पत्र

सहारनपुर : सहारनपुर के लोगों एवं बाहर से आने वाले यात्रियों को सुलभ एवं सस्ती यातायात व्यवस्था उपलब्ध कराने के लिए नगर निगम ने नगर विकास विभाग से 15 इलेक्ट्रिक बसों सहित कुल 25 सिटी बसों के संचालन की स्वीकृति मांगी है।

नगरायुक्त ने प्रमुख सचिव नगर विकास को एक पत्र लिखकर विस्तार से यातायात समस्या से अवगत कराते हुए प्रदुषण मुक्त, सुलभ, सुरक्षित व सस्ते विकल्प के रुप में सिटी बसों के संचालन की आवश्यकता पर जोर दिया है।

नगरायुक्त गजल भारद्वाज ने प्रमुख सचिव नगर विकास को पत्र लिखकर अवगत कराया है कि जनपद सहारनपुर की सीमाएं तीन राज्यों हरियाणा, उत्तराखण्ड व हिमाचल से मिली हुई हैं तथा जनपद में मॉ शाकंभरी सिद्धपीठ भी स्थित है

इसलिए बड़ी संख्या में यात्रियों एवं श्रद्धालुओं का आवागमन नगर सहारनपुर से होता है। वर्तमान में शहर में आवागमन हेतु पब्लिक ट्रांस्पोर्ट की कोई व्यवस्था नहीं है जिससे यात्रियों द्वारा ई-रिक्शा एवं टैम्पों आदि साधनों का प्रयोग किया जा रहा है

जिससे शहर में ट्रैफिक जाम की स्थिति उत्पन्न हो रही है। नगरायुक्त ने पत्र के माध्यम से प्रमुख सचिव को बताया है कि सिटी बस के रुप में शहर में यात्रियों के लिए प्रदूषण मुक्त के साथ-साथ सुलभ, सुरक्षित एवं सस्ता विकल्प आवागमन के लिए उपलब्ध हो सकता है।

नगर निगम द्वारा नगर विकास विभाग को भेजे गए प्रस्ताव में प्रथम चरण में नगर से होकर विभिन्न राज्यों को जाने वाले यात्रियों को सुलभ आवागमन उपलब्ध कराने के उद्देश्य से हरिद्वार और देहरादून की ओर जाने वाले यात्रियों को घण्टाघर से छुटमलपुर तक, यमुना नगर व अम्बाला की ओर जाने वाले यात्रियों को सरसावा तक, मॉ शाकंभरी तीर्थ स्थल की ओर जाने वाले यात्रियों को बेहट तक

दिल्ली रोड की ओर जाने वालों को रामपुर मनिहारान तक, मुजफ्फरनगर मार्ग पर घण्टाघर से नागल तक, गंगोह मार्ग पर घण्टाघर से कुम्हार हेड़ा तक 15 इलेक्ट्रिक बसे चलाने की आवश्यकता जतायी गयी है। जिन्हें भविष्य में आवश्यकतानुसार तथा अन्य रुटों पर बसों के संचालन को देखते हुए संख्या में वृद्धि की जा सकती है।

निगम द्वारा भेजे गए प्रस्ताव में कहा गया है कि इससे न केवल शहर में चल रहे अवैध वाहनों के संचालन पर नियंत्रण होगा बल्कि यात्रियों को प्रदूषण मुक्त, सुलभ एवं सस्ता आवागमन का साधन भी उपलब्ध हो सकेगा। प्रस्ताव में प्रथम चरण में 15 इलेक्ट्रिक बसों सहित कुल 25 बसों के संचालन की स्वीकृति मांगी गयी है।